चित्तौड़गढ़ की मांगी बाई जैसी कई महिलाएं हैं सरकारी योजनाओं से कोसों दूर

शंभू: राजस्थान के चित्तौड़गढ़ ज़िले के गाँव भैरुखेड़ा (नाहरगढ़) की मांगी बाई भील का ससुराल होड़ा गाँव में था। सन् 2006 तक वह होड़ा गाँव

Continue reading

चित्तौड़गढ़ के गावों की दिवाली – आधारशिला स्कूल की लड़कियों के आलेख

विषमता उजागर करता दिवाली का त्यौहार मधु भील: मैंने अपने गाँव में दिवाली के त्यौहार को विशेष त्यौहार के रूप में मनाते नहीं देखा। मेरे

Continue reading

मध्यप्रदेश के भील, बारेला, भीलाला आदिवासियों का बैलों का त्यौहार – दिवावी

शिवजी किराड़े: मध्यप्रदेश में आदिवासी (भील, बारेला, भीलाला) समाज में दीवावी एक अनोखा त्यौहार है। आदिवासी समाज में दीवावी का सांस्कृतिक महत्व बहुत अधिक है।

Continue reading

चित्तौड़गढ़ की मधु भील ने की बच्चों को लॉकडाउन में पढ़ाने की पहल

मधु भील: मेरा नाम मधु भील है, मेरे गाँव का नाम केरारपुरा है जो राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले की भदेसर तहसील की धीरजी का खेड़ा

Continue reading

चित्तौड़गढ़ की कविता भील की लॉकडाउन में बच्चों को पढ़ाने की पहल

कविता भील: मेरे गाँव का नाम पीरखेड़ा है जो ग्राम पंचायत फाचर अहिरान में आता है। हमारी तहसील का नाम निम्बाहैड़ा है और हमारा ज़िला

Continue reading

25 सालों से राजस्थान में जातिगत शोषण के खिलाफ संघर्षरत – नारायणी भील

प्रेरणा: ऊंच-नीच, छुआछूत और जाति आधारित भेदभाव आज भी समाज में देखने को मिल जाता है। समाज का सारा ठेका इन तथाकथित ऊंची जाति वाले

Continue reading

1 2