Blog

18 या 21, शादी की उम्र में प्रस्तावित बदलाव पर क्या हैं गाँव बलौदा बाज़ार की ग्रामीण महिलाओं के विचार? 

कौशल्या चौहान: ग्राम महाकोनी, खोसड़ा ग्राम पंचायत, विकासखंड कसडोल का एक छोटा सा गॉंव है जो छत्तीसगढ़ के बलौदा बाज़ार ज़िले में है। शादी की उम्र में प्रस्तावित बदलावों को लेकर गॉंव में दलित आदिवासी मंच से कौशल्या ने एक चर्चा बैठकी बुलाई। चर्चा में हुई बातचीत के अनुसार कौशल्या ने सबकी बातों को इस

Continue reading

କୋଭିଡ-୧୯ ଓ ଆଦିାସୀଛାତ୍ର ଛାତ୍ରୀଙ୍କ ଭବିଷ୍ୟତ (ओडिशा के आदिवासी छात्रों पर कोरोना का प्रभाव)

ଜିତେନ୍ଦ୍ର ମ ji ୍ଜି (जितेंद्र मांझी): କୋଭିଡ-୧୯ ମହାମାରୀ ଯୋଗୁ ସମାଜ ରେ ଯେଉଁ ପରିବର୍ତ୍ତନ ଆସିଛି ତାହାକୁ ଇଂରାଜୀ ଭାଷାରେ “ନ୍ୟୁ ନର୍ମାଲ” କୁହା ଯାଉଛି। ସାମାଜିକ, ଅର୍ଥନୈତିକ, ରାଜନୈତିକ, ଶିକ୍ଷା, ସ୍ବାସ୍ଥ୍ୟ, ଆଦି ପ୍ରତି କ୍ଷେତ୍ର ଏହା ଦ୍ଵାରା ପ୍ରଭାବିତ ହୋଇଛି। ତେଣୁ ପରିବର୍ତ୍ତିତ ପରିସ୍ଥିତି ସହ ଖାପ ଖୁଆଇ ସମସ୍ତଙ୍କୁ ଚଳିବାକୁ ପଡୁଛି। ଏହି ପରିପ୍ରକ୍ଷୀରେ ଶିକ୍ଷା ଏକ ଏମିତି କ୍ଷେତ୍ର ବା ମୌଳିକ ଭି୍ତିଭୂମି ଯାହା ସହିତ ପିଲା ଠାରୁ

Continue reading

तमिल नाडु के एक छोटे से गाँव के सामुदायिक स्टोर ने शुरू की जैविक उत्पाद बेचने की पहल

सहोदय स्कूल: सहोदय स्कूल के बच्चे व शिक्षक एक शैक्षणिक भ्रमण पर निकले हुए हैं। इस दौरान वे स्थायी विकास आधारित जीवन शैलियों के विभिन्न प्रयोगों को जीकर समझ रहे हैं। इस ही क्रम में वे तमिलनाडू राज्य के तिरुवन्नामलाई में स्थित मरुदम फार्म स्कूल में जैविक खेती व किसानों की आय बदने के तरीके

Continue reading

शिक्षा क्या है – पुस्तक परिचय

भयभीत मन मेधावी नहीं हो सकता अरविंद अंजुम: आपकी सोच – समझ में प्रज्ञा क्या है? क्या यह बड़ा ही जटिल प्रश्न नहीं है? प्रज्ञा क्या है इसे कुछ शब्दों में बता पाना बहुत मुश्किल है। आइए, यह पता लगाना आरंभ करें कि प्रज्ञा क्या है। वह व्यक्ति जो लोगों के मत से भयभीत हैं,

Continue reading

मध्य प्रदेश पंचायत चुनाव और राजनीति में युवा

सुरेश डुडवे: अक्सर हमने लोगों से सुना है कि राजनीति बहुत गंदी है। इससे दूर ही रहना चाहिए। कई सारे लोग तो यह भी कह देते हैं कि कोई भी जीते, हमें क्या फ़र्क पड़ता है? लेकिन सिर्फ़ कह देने से आप अपनी ज़िम्मेदारी से नहीं हट सकते। आपकी राजनीति से दूर जाने की सोच

Continue reading

उत्तर प्रदेश के फ़ैज़ाबाद शहर की विरासत

अफाक़ उल्लाह: चौक एज में घंटाघर से गुलाबबाड़ी की तरफ़ जाते हुए बायें हाथ पर एक 1920 के करीब शुरू हुई छोटी सी दुकान है। जिसका नाम “रयाल इम्पोरियम वर्क्स” है। इस म्यूजिकल शॉप को मो. इरशाद खान, जिनकी उम्र लगभग 80 साल है, संचालित करते हैं। इनसे पहली मुलाकात एक हफ़्ते पहले हुई। इनकी

Continue reading

आज न वो घुघुती रही और न आसमान में कौवे

महिपाल: उत्तराखंड के कुमाऊँ और गढ़वाल क्षेत्र में मकर संक्राति के दिन मनाये जाने वाले त्यौहार ‘उत्तरैणी’ और ‘मकरैणी’ का खासा महत्व है। गढ़वाल में इस त्यौहार को ‘मकरैणी’ के नाम से और कुमाऊँ में ‘उत्तरैणी’ या ‘घुघुतिया’ के रूप में मनाया जाता है। इसे उत्तरैणी इसलिए कहा जाता है क्योंकि इस दिन के बाद

Continue reading

उत्तराखंड की गढ़वाली कहावतों या औखाणों की रोचक दुनिया

सिद्धार्थ:  इंसान के पाषाण काल के दौर से आज तक के सफर को तय करने और इस दौरान विकसित होने में, भाषाओं का बेहद अहम योगदान रहा है। दुनिया की विभिन्न भाषाओं के विकास की और उनके वर्तमान में बचे रहने या खत्म हो जाने की भी अपनी एक रोचक कहानी होगी। इस बारे में

Continue reading

लड़कियों की शादी की उम्र 18 से 21 बढ़ाना सही है या ग़लत ?

स्वप्निल और सोमित: इस शॉर्ट फिल्म में कुछ युवा मध्य प्रदेश के भिंड ज़िले में गांव में लोगों से सरकार द्वारा लाए जाने वाले कानून (जिसमें लड़कियों की शादी की उम्र 18 से 21 करने के प्रावधान है) के बारे में चर्चा करते हैं। इस संवाद में समाज में महिलाओं की विकित स्तिथि, समाज में

Continue reading

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.


Follow My Blog

Get new content delivered directly to your inbox.