କୋଭିଡ-୧୯ ଓ ଆଦିାସୀଛାତ୍ର ଛାତ୍ରୀଙ୍କ ଭବିଷ୍ୟତ (ओडिशा के आदिवासी छात्रों पर कोरोना का प्रभाव)

ଜିତେନ୍ଦ୍ର ମ ji ୍ଜି (जितेंद्र मांझी): କୋଭିଡ-୧୯ ମହାମାରୀ ଯୋଗୁ ସମାଜ ରେ ଯେଉଁ ପରିବର୍ତ୍ତନ ଆସିଛି ତାହାକୁ ଇଂରାଜୀ ଭାଷାରେ “ନ୍ୟୁ ନର୍ମାଲ” କୁହା ଯାଉଛି। ସାମାଜିକ, ଅର୍ଥନୈତିକ, ରାଜନୈତିକ, ଶିକ୍ଷା,

Continue reading

18 या 21, शादी की उम्र में प्रस्तावित बदलाव पर क्या हैं गाँव बलौदा बाज़ार की ग्रामीण महिलाओं के विचार? 

कौशल्या चौहान: ग्राम महाकोनी, खोसड़ा ग्राम पंचायत, विकासखंड कसडोल का एक छोटा सा गॉंव है जो छत्तीसगढ़ के बलौदा बाज़ार ज़िले में है। शादी की

Continue reading

ଜଲ ଜଂଗଲ ଜମୀନ୍ ଆମର ମାଁ ବୁଆ | जल, जंगल, ज़मीन हैं मां बाप हमारे

ଲୋଚନ ବରିହା (लोचन बरिहा): ଜଲ ଜଂଗଲ ଜମୀନ୍ ମାଁ ବୁଆ ରେ ଆମେ ଇ ମାଟିର ଛୁଆ ଜଂଗଲ ହେଉଛେ ଆମ୍ କେ ସାହାରେ ଆମେ ଇ ମାଟିର ଛୁଆ।।  ରାଜୁତି କାଲରେ

Continue reading

आज भी हमें डर है – कविता

जेरोम जेराल्ड कुजूर: आज भी हमें डर है।हमारी ज़मीन पर,हम खुशहाल थे,धान, मडुवा, गोंदली, मकई सेलहराते थे हमारे खेत,देख हम सभी,संग झूमते- नाचते थे अखरा

Continue reading

क्यूँ सूने होते जा रहे हैं आदिवासी गाँवों के अखड़े

जोवाकिम टोप्पो: लोकनृत्य और लोकगीत, आदिवासी जन-जीवन को उल्लासित करने का एक सर्वोत्तम माध्यम हैं। नृत्य, संगीत आदिवासी जीवन के रग-रग में, पल-पल में रचा

Continue reading