महंगाई खा गई छोटे मेलों को!

अफ़ाक उल्लाह: कई दिनों से बाराबंकी के अलग-अलग क्षेत्रों में बुनकर (हथकरघा) समुदाय के लोगों के साथ मिल-जुल रहे हैं। घूमते-घूमते हम मुश्कबाद गाँव में

Continue reading

फ़ोटो स्टोरी 1 – मजबूरी का नाम ज़िंदगी

स्वप्निल: मजबूरी की एक ऐसी कहानी जो कई जिंदिगियों की कहानी है। शाम के 4:30 बज रहे थे। मध्य प्रदेश के भिंड ज़िले के छोटे

Continue reading

ଲଢମା ଆ…. ଲଢମା ଆ

डोलामणी: ତୁଇ ପାଠ୍ ନେଇ ପଢି ବୋଲି ତୋତେ ସୋଷଣ କରୁଛନ୍ତୁଇ ନାଇ ଜାନୀ ବୋଲି ଦଲାଲ ତତେ ଠକୁଛେ.ତୁଇ ଗରୀବ ବିପିଏଲ୍ ବଲି ସରକାରୀ ବାବୁ ତୋତେ ଦେଖି ହସୁଛେ.ତୁଇ ସୋର୍ ନେଇ

Continue reading

दिल्ली के सरकारी स्कूल

मंगेश कुमार: मेरा नाम मंगेश कुमार तिवारी है। मैं अपने परिवार के साथ पिछले 13 वर्षों से दिल्ली में रहता हूं। यहां मैं एक कोठी

Continue reading

युवाओं की उड़ान को रोकती शादियाँ

शुभम पांडे:  भारतीय समाज के परिप्रेक्ष्य में बात करें तो हमेशा से ही शादी-विवाह, समाज में यश स्थापित करने और परिवार की समृद्धि जताने और

Continue reading

कुत्ता – वफ़ादार तो है!

छोटू लाल नागवंशी: वो करता रहा भौं-भौं, तेरे सोने पर जहां लगा था बिस्तर, दूसरे कोने पर हां, उसका प्रकृति है ही, भौंकने का चर

Continue reading

1 2 3 4