ଆଜିର ବ୍ୟବସ୍ଥା ରାଜ୍ଯ ର ଅବସ୍ଥା शोषण को स्वीकार करके दुखी और गरीब होगा खेतिहर मजदूर : ओड़िया कविता

ମନ ସିଂ ମୁର୍ମୁ (मान सिंह मुर्मु): ଆଜିର ବ୍ୟବସ୍ଥା                ରାଜ୍ୟର ଅବସ୍ଥା ନେତା ମନ୍ତ୍ରୀଙ୍କ ସକାଶେ ।                 ନିଜେ ବ୍ୟବସ୍ଥାରେ ବସି ଗଢିଲେ ନୀତି ପୁଣି କରୁଛନ୍ତି ବ୍ୟବସ୍ଥାରେ ଅନୀତି                  ଜନ ଆନ୍ଦୋଳନକୁ

Continue reading

अन्याय और अत्याचार के खिलाफ मैं राजेश बर्डे और राष्ट्रीय क्रांति मोर्चा संगठन हमेशा खड़े हैं

राजेश बर्डे: मेरा नाम राजेश बर्डे है, ग्राम रेटवा, पोस्ट दसनावल, तहसील गोगावां, जिला खरगोन म.प्र.। मैं नर्सिंग कॉलेज इंदौर से बीएससी नर्सिंग कर रहा

Continue reading

गन्ना कटाई मज़दूरों की मज़दूरी बढ़ाने की मांग की ऐतिहासिक जीत

जयेशभाई गामित: दक्षिण गुजरात में गन्ना कटाई के काम में गुजरात, महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश के आदिवासी मज़दूर पलायन करके काम करने आते हैं। इन मज़दूरों

Continue reading

द कश्मीर फाइल्स: अत्याचार पर दोगलापन क्यों?

सुनील इंडियन: पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया के हर प्लेटफॉर्म पर ट्रेडिंग में एक ही नाम चल रहा है- ‘द कश्मीर फाइल्स’। एक फिल्म

Continue reading

म. प्र. की आदिवासी मज़दूर महिलाओं पर साहूकारों की बुरी नज़र

शांता: मध्य प्रदेश के बड़वानी ज़िले के एक पहाड़ी ग्राम के‌ पति और पत्नी, गुजरात में भाग (बंटाई) पर खेती करने गये थे। कुछ समय

Continue reading

मध्य प्रदेश के आदिवासी युगल रामू और रेवन्ती की कहानी

सुखलाल तरोले: भारत के 77% किसान सीमांत किसान है (ऐसे किसान जिनके पास 2.5 एकड से कम ज़मीन है)। केवल खेती से उनका जीवन यापन

Continue reading

1 2 3