गोण काठा दिहे आवहोत

यह कविता पावरी भाषा में लिखी गयी है। यह भाषा पश्चिम मध्य प्रदेश और उससे लगे महाराष्ट्र के भील, पावरा आदिवासियों द्वारा बोली जाती है।शहरों

Continue reading

हमे लूट रही मिल के, जा सरकार…

मोहन सिंह: हमे लूट रही मिल के, जा सरकार… x 2 जाग-जाग नौजवान तू जाग,अपने हक़-अधिकार को पहचान..जाग-जाग नौजवान तू जाग,अपने हक़-अधिकार को पहचान..हमे लूट

Continue reading

यादों का मौसम

विश्वजीत नास्तिक:अररिया, बिहार | कक्षा 12वी तेरी यादों का मौसम,बेमौसम बरसात की तरह है…,जब भी आती है,मुझे भीगा जाती है…। तेरी जुल्फों की महक,निशा की

Continue reading

बरसात का आगाज़

मुस्कान पटेल: बरसात का आगाज़किसान की आवाज़ तिल अभी बस मुस्कुराई थी,उड़द, लहलहाई ही थीमूंग में महक आई ही थी,कि अधिक पानी,सब एक साथ ले

Continue reading

हम करोड़ों दिए भी जला देंगे पर…

ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह: हम करोड़ों दिए भी जला देंगे परराम जंगल से वापस आएंगे नहीं। हमने लाखोंदिखावे-छलावे कियेमन के दीपक कभी भी जलाए नहीं। हम

Continue reading

कलम आधी नहीं हो सकती

इंदु सिंह: कलम आधी नहीं हो सकतीकलम पीछे नहीं लौट सकतीजितनी बंदूके हैं दुनिया मेंपेंसिल कलम उनसे ज़्यादातादाद में, एक कलमजीवन जीती है,अभिव्यक्ति करती है,प्यार

Continue reading

1 2 3 5