हिमाचल की तरह झारखंड भी क्या पर्यटन और जैविक खेती की बदौलत आगे नहीं बढ़ सकता?

दीपक रंजीत:  हिमाचल की तरफ आये हैं तो सोचे कि क्यों नहीं यहाँ के बारे में कुछ लिखा-पढ़ा जाए, जाना-समझा जाए। हिमाचल प्रदेश की अर्थव्यवस्था

Continue reading

सभ्य होने का दंश

अरबिंद भगत: हम अच्छे भले जी रहे थेइस दुनिया से दूर,जिसे सभ्य कहा जाता है आज। हम जी रहे अपनी ज़िंदगी,उन जंगलों के साथ,जो हमें

Continue reading

सांवैधानिक मूल्यों के प्रसार हेतु अनूठी घुमंतू पुस्तकालय यात्रा

शशांक शेखर: 26 नवंबर, का दिन पूरे देश के लिए किसी राष्ट्रीय उत्सव से कम नहींं होता, इस दिन भारत का संविधान अंगीकृत किया गया

Continue reading

झारखण्ड में आयोजित युवा समावेश पर रिपोर्ट 

कुमार दिलीप: रोज़गार के संवैधानिक अधिकार और युवा आंदोलन विषय पर एक-दिवसीय युवा समावेश, जनमुक्ति संघर्ष वाहिनी एवं झारखंड किसान परिषद के संयुक्त तत्वधान में

Continue reading

झारखंड की साथी सलोमी एक्का की ज़ुबानी उनका संछिप्त परिचय

सलोमी एक्का: मैं झारखंड राज्य के रांची ज़िले के लोधमा गाँव के एक आदिवासी किसान परिवार से आती हूँ। परिवार में पाँच भाई बहनों में

Continue reading

1 2 3 7