कूड़ा निपटान और मज़दूरों का जीविका संघर्ष

धर्मेन्द्र यादव: सन् 2008 में एक एनेमीशेन फिल्म आई, वॉल-ई। इस फिल्म में दिखाया गया कि किस तरह से दुनिया अपने द्वारा बनाई गई वस्तुओं

Continue reading

हम हसदेव के आदिवासी हैं

उमेश्वर: हम हसदेव के आदिवासी हैं, आक्सीजन बचाने का संघर्ष करते हैं साहब। जल जंगल जमीन बचाना हमारा धर्म है,  शोषण, अत्याचार, लूट के खिलाफ

Continue reading

ବିଶ୍ବ ପ୍ରକୃତି ସଂରକ୍ଷଣ ଦିବସ | विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस

अन्नपूर्णा महालिंग:  ବିଗତ ଦୁଇ ଶହ ବର୍ଷରେ ମନୁଷ୍ୟ ଯେତିକି ଉନ୍ନତ ଶୌଲିର ଜୀବନ ଯାପନ କରି ଆସିଛି ତାହା ଗତ ଦୁଇ ହଜାର ବର୍ଷରେ ଘଟିନଥିଲା। ଏବେ ମନୁଷ୍ୟ ନିଜର ବୈଜ୍ଞାନିକ ଜ୍ଞାନ

Continue reading

एक पेड़ ज़िंदगी के नाम

जतिलाल सोलंकी: बहुत पुराना है यह वट वृक्ष,घना जंगल था इसके आसपास। प्रातः काल सूर्य उदय के समय,गूंजती थी पक्षियों की आवाज।  कुछ साल पहले, बसते

Continue reading

क्या हीरा खनन की भेंट चढ़ जाएंगे मध्य प्रदेश के बक्सवाहा के जंगल?

वीरेंद्र दुबे: मध्य प्रदेश के छतरपुर ज़िले में स्थित बक्सवाहा के जंगल, दमोह और पन्ना ज़िलों से लगे हुए हैं, जहाँ पर हीरा खनन परियोजना

Continue reading

आक्सीजन मिल जाही का🌱🌴🌿

उमेश्वर: विकास बेटा की चाहत में, मैंने नदी नाला पहाड़ खोद डालाबेटा विकास कहां छिपा है तू?बड़े-बड़े पावर प्लांट चिमनी की धुआं से गुब्बारा बना

Continue reading