कूड़ा निपटान और मज़दूरों का जीविका संघर्ष

धर्मेन्द्र यादव: सन् 2008 में एक एनेमीशेन फिल्म आई, वॉल-ई। इस फिल्म में दिखाया गया कि किस तरह से दुनिया अपने द्वारा बनाई गई वस्तुओं

Continue reading

गोरख पांडे की बेबाकी और दुस्साहस उनकी कविताओं की पहचान है

सिद्धार्थ:  गोरख पाण्डे हिन्दी साहित्य के उन कुछ गिने चुने नामों में से हैं जिन्होंने कविता लेखन की प्रचलित शैलियों से इतर, एक अलग अंदाज़

Continue reading

1 अगस्त को दिल्ली में जन जागरण शक्ति संगठन बिहार के मनरेगा मज़दूरों ने किया प्रदर्शन 

अखिलेश:  मनरेगा के काम में मजदूरों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। लिखित में काम मांगने के बावजूद उन्हें सही समय पर काम

Continue reading

महंगाई के रास्ते पर अटकी ऊबर ड्राइवर की ज़िंदगी

अमित: रविन्दर कुमार दिल्ली में छः सालों से उबर चला रहे हैं। हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा ज़िले के रहने वाले हैं। महंगाई का इनकी ज़िन्दगी

Continue reading

वैज्ञानिक चेतना और अन्धविश्वास निर्मूलन पर काम कर रही संस्थाएं/समूह

युवानिया डेस्क: 1. असम साइंस सोसाइटी, असम: असम साइंस सोसाइटी एक स्वैच्छिक संगठन है जिसे वर्ष 1953 में “गौहाटी साइंस सोसाइटी” के रूप में स्थापित

Continue reading

क्रांतिकारी बटुकेश्वर दत्त: एक परिचय

अनिल वर्मा: (अनिल वर्मा की पुस्तक ‘बटुकेश्वर दत्त-भगत सिंह के सहयोगी’ से उद्धृत; नेशनल बुक ट्रस्ट) पिछले कुछ सालों से जब फेसबुक पर भगत सिंह

Continue reading

1 2