क्योंकि मैं लड़की हूँ मुझे पढ़ना है

कमला भसीन: एक पिता अपनी बेटी से कहता है –पढ़ना है! पढ़ना है! तुम्हें क्यों पढ़ना है?पढ़ने को बेटे काफ़ी हैं, तुम्हें क्यों पढ़ना है?बेटी

Continue reading

बारेला समाज की महिलाओं का जीवन

सुरेश डुडवे: बारेला समाज, मध्यप्रदेश के बड़वानी, खरगोन, धार एवं झाबुआ जिलों में मुख्यत: निवास करता है। माना जाता है कि भील से ही भिलाला

Continue reading

भारत का संविधान और देश में महिलाओं की स्थिति

एड. आराधना भार्गव: प्राचीन काल में कबीलाई समाज के समय, महिला परिवार व कबीले की मुखिया होती थी। समाज में महिलाओं का सम्मानजनक स्थान था।

Continue reading