सहदोय डायरीज़: सहदोय में रहने का अनुभव

सहोदय के बच्चों ने अपने शब्दों और तरीके में अपने अनुभव, भावना, समझ, काम और यहाँ के माहौल के बारे में लिखे। स्कूल में टीचर

Continue reading

कविता: मेरे देश की आँखें- अज्ञेय

नहीं, ये मेरे देश की आँखें नहीं हैंपुते गालों के ऊपरनकली भवों के नीचेछाया प्यार के छलावे बिछातीमुकुर से उठाई हुईमुस्कान मुस्कुरातीये आँखें –नहीं, ये

Continue reading

जाति व्यवस्था के मुद्दे पर बात करती कुछ फिल्में और गीत

युवानिया डेस्क: जन जागरण शक्ति संगठन (JJSS) असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों का एक पंजीकृत ट्रेड यूनियन है। संगठन के युवा साथियों ने जाति व्यवस्था के

Continue reading

आपको सबसे पहले अपनी जाति के बारे में कब पता चला?

आशीष कुमार, अवध पीपल फॉरम, अयोध्या (फैज़ाबाद) (उत्तर प्रदेश) जब मैं 14 साल की उम्र का था तब मैं अपनी छत पर पतंग उड़ा रहा

Continue reading

कितनी सुरक्षित हैं देश की महिलाएँ ?

शुभम पांडेय: पिछले कुछ वर्षों में, भारत में महिला सुरक्षा एक प्रमुख मुद्दा बन गया है। अपराध की दर लगातार बढ़ रही है, और महिलाओं

Continue reading