क्यों अडिग है किसान आंदोलन ?

अरविंद अंजुम: आप जानते ही हैं कि पिछले 9 महीने से भी ज़्यादा समय से किसान तीन कृषि कानूनों की वापसी और न्यूनतम समर्थन मूल्य

Continue reading

खेती के प्रति युवाओं की सोच

दीवान डुडवे:  हमारा देश कृषि प्रधान है और कृषि हम भारतीयों के लिए रोज़गार का सबसे बड़ा साधन है। मौजूदा दौर में युवा शिक्षित हो

Continue reading

मध्य प्रदेश से खेती, किसान के हालात और कृषि अधिनियमों पर टिप्पणियाँ

सुरेश डुडवे (बड़वानी): मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले की वरला तहसील के देवली गांव के किसान फसल के सही दाम नहीं मिल पाने से परेशान हैं।

Continue reading

खुले बाज़ार और निजीकरण के भरोसे किसान को न छोड़े सरकार!

बड़े पूंजीपति समूहों को खेती में लाने के कानून ना बनाएं। इसके बदले सरकार यह सुनिश्चित करे कि किसान के द्वारा उगाई गई फसल के हर एक दाने का सही मूल्य उन्हें मिले, और भुखमरी और बदहाली की ज़िन्दगी से उन्हें छुटकारा मिले।

Continue reading

आमु वासी ने भील

(बारेली लोकगीत) निवी गोफन पेवो पागडो रे, आमु वासी ने भीलड़ा,काव्यो बुले लेदा रे ,आमु वासी ने भील।खेड़ी – खेडी ने रसे वाव्या रे आमु

Continue reading

1 2