अनायास: सिविल नाफरमानी पर गाँधी के विचार और उन पर अरविंद अंजुम की टिप्पणी

अरविंद अंजुम: काश मैं सबको इस बात के लिए मना सकता कि सिविल नाफरमानी हर नागरिक का जन्मजात अधिकार है। वह मनुष्यता छोड़े बिना इसको

Continue reading

मैं अंधेरा बाँटता हूंँ

लाल प्रकाश राही:  मैं अंधेरा बाटता हूँ। सुबह से शाम, दोपहर से रात,हर समय हर जगह, जहाँ देखोगे जिधर देखोगे,मिलूँगा मैं, सिर्फ मैं। संसद से लेकर

Continue reading

उड़िया कविता: କୁଆଡେ ଗଲ? | किधर गए ?

अमूल्य कुमार नायक: ରାଜନୀତି ଦଳେ  ନିର୍ବାଚନ ବେଳେ         ନେତା, କର୍ମୀ ପଲପଲ,ସଙ୍କଟ ବେଳରେ  କେଉଁଠି ଲୁଚିଲ         ଲୋକମାନେ କଲବଲ ।         କାହାର କଅଣ କଲ  ?ମନ୍ତ୍ରୀ, ବିଧାୟକ,  ସାଂସଦ, ଅଧ୍ୟକ୍ଷ         ଏ ବେଳେ କୁଆଡେ ଗଲ ?? ଶୀତଳ

Continue reading

आखिर हम लोग ऐसे क्यों हैं?

कोरोना महामारी के समय भी कालाबाज़ारी! अमित: आजकल एक बात बहुत चल रही है सोशल मीडिया में कि हमारे देश के लोग ऐसे क्यों हैं

Continue reading