शंकर गुहा नियोगी – जिन्हे देश के युवाओं का आइकॉन होना चाहिये

अमित: अब सोचता हूॅं कि ऐसा कैसे हुआ कि इतने सालों में कभी नियोगी से मिला ही नहीं? नियोगी से हम लोग कभी नहीं मिले

Continue reading

युवानिया लेखन कार्यशाला

युवानिया डेस्क: युवानिया के एक वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष में तीन दिवसीय लेखन कार्यशाला का आयोजन किया गया, लगभग 25 युवाओं ने इसमें भाग

Continue reading

हरेली त्यौहार, संगठन कार्यकर्ता पर फर्जी कार्रवाई और आदिवासियों की ज़मीन से बेदखली पर छत्तीसगढ़, म. प्र. और बिहार से स्थानीय खबरें

गाँव-गाँव में मनाया गया हरेली त्यौहार  -(छत्तीसगढ़) हरेली छत्तीसगढ़ी लोक परंपरा व संस्कृति का पहला राजकीय त्यौहार है। हरेली इसलिए मनाया जाता है, क्योंकि इस

Continue reading

छत्तीसगढ़ के पिथोरा से बंधुआ मजदूरी पर रिपोर्ट

सिद्धार्थ: 5 नवंबर-2020, गाँव- चिरौदा, तहसील- पिथौरा, जिला- महासमुंद 5 नवंबर 2020 को छत्तीसगढ़ के साथी राजिम दीदी और देवेन्द्र भाई के साथ हम पिथोरा

Continue reading

आदिवासी समरसता, एकता और प्रजातांत्रिक राजनीति को व्यापक बनाता है शब्द ‘जोहार’

डा. गणेश माँझी: ‘जोहार’ – मुख्यतः झारखण्ड के छोटानागपुर और संताल परगना में प्रचलित अभिवादन है। जो बचपन से अभी तक समझ में आया है

Continue reading

बदस्तूर जारी है ईंट भट्टों में मज़दूरों का शोषण !

सौरभ सिन्हा: झारखंड से छुड़ाए गए प्रवासी मज़दूरों की कहानी  विजय* और दिव्या* की शादी कुछ साल पहले हुई थी। दोनों छत्तीसगढ़ के बलोदा बाज़ार

Continue reading

1 2 3