गोण काठा दिहे आवहोत

यह कविता पावरी भाषा में लिखी गयी है। यह भाषा पश्चिम मध्य प्रदेश और उससे लगे महाराष्ट्र के भील, पावरा आदिवासियों द्वारा बोली जाती है।शहरों

Continue reading

गुजरात के कडाना डेम के पास तोड़ी गयी शहीद बिरसा मुंडा की प्रतिमा: विडियो रिपोर्ट

शिवजी किराड़े: गुजरात के महीसागर जिले के कडाना डैम के पास स्थापित आदिवासी वीर शहीद क्रांतिसूर्य भगवान बिरसा मुंडा की प्रतिमा को असामाजिक तत्वों ने

Continue reading

हम आदिवासी, हमारा समाज और हमारी परम्पराएँ

देवानंद बोयपई: आदिवासी शब्द को तोड़कर देखें तो, आदि+वासी – यानि जल जंगल और ज़मीन पर आदि काल से निवास करने वाले विशेष समुदाय। इनका

Continue reading

आदिम संताल – संथाली कविता

पतिचरण मुर्मू: आदिवासी संताड़ सामाज कहानी।आबो संताड़ को ताहेंकाना राजा, रानी ।।ताहेंकाना को किसकू समाज।दिशोमरे ताहेंकाना अनकुवाः राज।।ताहेंकाना आबोवाः चाईगाड़।ताहेंकाना आबोवाः चाम्पागाड़।।आबोवाः गे ताहेंकाना कश्मीर।ओनागे

Continue reading

मुंडा आदिवासी समुदाय का संछिप्त परिचय

सलोमी एक्का: मुंडा (या मुण्डा) जनजाति मुख्य रूप से झारखंड, ओडिशा, असम, मध्य प्रदेश, बंगाल, और अंडमान में निवास करती है। संथाल, हो और खड़िया

Continue reading

जन संघर्ष समिति से गुमला के एडविन टोप्पो का परिचय

एडविन टोप्पो: मैं झारखंड के गुमला ज़िले के पुटरुंगी गाँव के एक मध्यवर्गीय परिवार से आता हूँ। मुझे पढ़ने का कोई शौक नहीं था, पर

Continue reading

1 2 3 6