भूमिहीन नहीं थे हम पहले

अमित: ये कहानियाँ 1997 में पश्चिम चंपारण ज़िले में गाँव की मीटिंग में सुनीं थीं। स्कूल के कमरे में एक दिवसीय मीटिंग के लिये इकट्ठे

Continue reading

संथाल आदिवासी समुदाय ऐसे मानता है सोहराय पर्व

युवानिया डेस्क:  सोहराय पर्वसे संथाल आदिवासियों का एक प्रमुख पर्व है। इस पर्व को मनाने का मुख्य कारण धान पकाने में मदद करने के लिए

Continue reading

बारेला समाज की महिलाओं का जीवन

सुरेश डुडवे: बारेला समाज, मध्यप्रदेश के बड़वानी, खरगोन, धार एवं झाबुआ जिलों में मुख्यत: निवास करता है। माना जाता है कि भील से ही भिलाला

Continue reading

छत्तीसगढ़ का लोकगीत – सुवा गीत

दुर्गा दिवान: कार्तिक माह की अमावस के दिन छत्तीसगढ़ में दिवाली मनाई जाती है। दिपावली के दिन चारों तरफ दिया की रौशनी की जगमग होती

Continue reading

सोहराय पर्व – संथाल आदिवासी समुदाय का त्यौहार

लालमोहन मुर्मू: सोहराय एक संथाल आदिवासी समुदाय का त्यौहार है। हिन्दू लोग इस पर्व को दिवाली कहते हैं लेकिन यह हिंदुओं की दिवाली से अलग

Continue reading

चित्तौड़गढ़ के गावों की दिवाली – आधारशिला स्कूल की लड़कियों के आलेख

विषमता उजागर करता दिवाली का त्यौहार मधु भील: मैंने अपने गाँव में दिवाली के त्यौहार को विशेष त्यौहार के रूप में मनाते नहीं देखा। मेरे

Continue reading

1 2 3 5