क्योंकि मैं लड़की हूँ मुझे पढ़ना है

कमला भसीन: एक पिता अपनी बेटी से कहता है –पढ़ना है! पढ़ना है! तुम्हें क्यों पढ़ना है?पढ़ने को बेटे काफ़ी हैं, तुम्हें क्यों पढ़ना है?बेटी

Continue reading

ମହିଳା ଦିବସ ପାଳନ/ मेरे लिए महिला दिवस के मायने

ଜ୍ୟୋତି ଜୋଜୋ: ପ୍ରିୟଦର୍ଶିନୀ ମହିଳା ମହାବିଦ୍ୟାଳୟ ରେ ପଢୁଥିବା ମୁଁ ଜଣେ ଛାତ୍ରୀ। ପ୍ରତି ବର୍ଷ ପରି ଏ ବର୍ଷ ମଧ୍ୟ ଆମ ମହାବିଦ୍ୟାଳୟ ରେ ମହିଳା ଦିବସ ପାଳନ କରାଗଲା । ସମସ୍ତ

Continue reading

लड़की, जिसके लिए पैदा होना भी एक चुनौती है

शीबा अज़ीज़: हर दौर में लड़कियों को चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, लड़की बनकर पैदा होना ही उनके लिए एक चुनौती है। आज अगर

Continue reading

कितनी सुरक्षित हैं देश की महिलाएँ ?

शुभम पांडेय: पिछले कुछ वर्षों में, भारत में महिला सुरक्षा एक प्रमुख मुद्दा बन गया है। अपराध की दर लगातार बढ़ रही है, और महिलाओं

Continue reading