असंगठित क्षेत्र के मज़दूरों के लिए मददगार साबित हो रही है इंडिया लेबरलाइन

आशुतोष मिश्रा: इंडिया लेबरलाइन (1800-833-9020) एक मज़दूर जो अपनी आजीविका के लिए घर छोड़कर इस आशा के साथ पलायन करता है कि उसे रोज़गार मिलेगा।

Continue reading

ये चल क्या रहा है?: क्या हमारी अगली पीढ़ी भी मज़दूर ही बनेगी?

अभिषेक जमरे: आज मैं अपने गांव की वड़ फलिया में गया। पिछले कुछ महीनों से मैं इस फलिया में बच्चों के स्वास्थ्य के बारे में

Continue reading

प्रवासी मज़दूरों के बारे में क्या कहता है नया श्रम कानून?

राजू और स्वप्निल: 2011 की जनगणना के अनुसार, भारत में 5.6 करोड़ अंतर्राज्यीय प्रवासी हैं, जिनमें से अधिकांश उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, राजस्थान और मध्य

Continue reading

कोविड-19 के लॉकडाउन के दौरान एक प्रवासी मज़दूर परिवार की कहानी

कौशल्या चौहान:   कोरोना महामारी के चलते जब मार्च 2020 में पहला लॉकडाउन लगा तो पूरा देश, प्रवासी मज़दूरों के अभूतपूर्व पलायन का गवाह बना। इस

Continue reading

वैक्सीनेशन सर्वे के दौरान हम फ़ैज़ाबाद की लड़कियों के अनुभव:2

विनीता: जिंदाबाद साथियों मेरा नाम विनीता है मैं पहाड़गंज की रहने वाली हूं और अवध पीपुल्स फोरम के साथ लंबे समय से किशोरियों के स्वास्थ्य

Continue reading

वैक्सीनेशन सर्वे के दौरान हम फ़ैज़ाबाद की लड़कियों के अनुभव

इरम: आदाब, मेरा नाम इरम है। मैं एम.एस.सी प्रथम वर्ष में पढ़ रही हूं और अवध पीपुल्स फोरम के साथ 100% वैक्सीनेशन का सर्वे कर

Continue reading

1 2 3 8