राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम का मेरा अनुभव

गीता ब्राह्मणे इस कार्यक्रम के तहत हम नवजात शिशुओं से लेकर 18 साल के बच्चों तक का स्वास्थ्य परीक्षण करते हैं। इसमें गंभीर बीमारी वाले

Continue reading

मध्यप्रदेश के भील, बारेला, भीलाला आदिवासियों का बैलों का त्यौहार – दिवावी

शिवजी किराड़े: मध्यप्रदेश में आदिवासी (भील, बारेला, भीलाला) समाज में दीवावी एक अनोखा त्यौहार है। आदिवासी समाज में दीवावी का सांस्कृतिक महत्व बहुत अधिक है।

Continue reading

पश्चिम मध्य प्रदेश के बारेला आदिवासी: देव और हमारे बीच का रिश्ता

मुकेश डुडवे: पश्चिम मध्य प्रदेश के बारेला आदिवासियों के गांव का मुख्य देव, बाबदेव होता है। बारिश के मौसम की शुरुआत में जब सभी प्रकार

Continue reading

मध्य प्रदेश के निमाड़ इलाके में मनाए जाने वाले भंग्रिया या भंगोरिया हाट की कहानियाँ

युवानिया डेस्क: ये कहानियाँ जामसिंह पिता मटला ग्राम लखनकोट; सुरबान, ग्राम ककराना; शंकर तड़वाल, अलीराजपुर; मुकेश डुडवे, बड़वानी आदि लोगों से पूछकर संकलित की गई

Continue reading

आमु वासी ने भील

(बारेली लोकगीत) निवी गोफन पेवो पागडो रे, आमु वासी ने भीलड़ा,काव्यो बुले लेदा रे ,आमु वासी ने भील।खेड़ी – खेडी ने रसे वाव्या रे आमु

Continue reading

खेती, किसान और उसकी समस्याएँ

सुरेश डुडवे: मध्यप्रदेश के बड़वानी, झाबुआ, धार, अलीराजपुर, खरगोन तथा खंडवा जिलों में भील, भिलाला एवं बारेला समुदाय के आदिवासी समाज रहते हैं। प्रकृति के

Continue reading