तय करो किस ओर हो तुम: बल्ली सिंह चीमा की कविता

युवानिया डेस्क: बल्ली सिंह चीमा का जन्म 2 सितम्बर, 1952 में चीमाखुर्द गाँव, अमृतसर ज़िला, पंजाब में हुआ था। इनकी माता का नाम सेवा कौर

Continue reading

ଆଜିର ବ୍ୟବସ୍ଥା ରାଜ୍ଯ ର ଅବସ୍ଥା शोषण को स्वीकार करके दुखी और गरीब होगा खेतिहर मजदूर : ओड़िया कविता

ମନ ସିଂ ମୁର୍ମୁ (मान सिंह मुर्मु): ଆଜିର ବ୍ୟବସ୍ଥା                ରାଜ୍ୟର ଅବସ୍ଥା ନେତା ମନ୍ତ୍ରୀଙ୍କ ସକାଶେ ।                 ନିଜେ ବ୍ୟବସ୍ଥାରେ ବସି ଗଢିଲେ ନୀତି ପୁଣି କରୁଛନ୍ତି ବ୍ୟବସ୍ଥାରେ ଅନୀତି                  ଜନ ଆନ୍ଦୋଳନକୁ

Continue reading

जानिये मध्य प्रदेश भवन निर्माण श्रमिक कार्ड के बारे में

राजू: अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) के आँकड़े बताते हैं कि विश्व में कार्यरत कुल जनसंख्या के 61% लोग, असंगठित क्षेत्रों में काम करते हैं। ऐसा

Continue reading

1 अगस्त को दिल्ली में जन जागरण शक्ति संगठन बिहार के मनरेगा मज़दूरों ने किया प्रदर्शन 

अखिलेश:  मनरेगा के काम में मजदूरों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। लिखित में काम मांगने के बावजूद उन्हें सही समय पर काम

Continue reading

असंगठित क्षेत्र के मज़दूरों के लिए मददगार साबित हो रही है इंडिया लेबरलाइन

आशुतोष मिश्रा: इंडिया लेबरलाइन (1800-833-9020) एक मज़दूर जो अपनी आजीविका के लिए घर छोड़कर इस आशा के साथ पलायन करता है कि उसे रोज़गार मिलेगा।

Continue reading

गन्ना कटाई मज़दूरों की मज़दूरी बढ़ाने की मांग की ऐतिहासिक जीत

जयेशभाई गामित: दक्षिण गुजरात में गन्ना कटाई के काम में गुजरात, महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश के आदिवासी मज़दूर पलायन करके काम करने आते हैं। इन मज़दूरों

Continue reading

1 2 3