जब सडकें बनती हैं

सौरभ: जब सडकें बनती हैंतब जाकर कोई शहरतरक्की की पहली सीढ़ी पाता हैतहसील ऑफिस के पासप्राइवेट बैंक का ब्रांच भीउसके बाद ही खुल पाता हैमुख्यधारा

Continue reading

रोम में जूलियस सीज़र की हत्या : आज की तारीख ने हमेशा के लिए दुनिया को बदल दिया

सौरभ सिन्हा: 15 मार्च 44 BC* (ईसा पूर्व) को भरे सदन (senate) में कम से कम 60 सांसदों (senators) ने जूलियस सीज़र को चाकुओं से

Continue reading

बदस्तूर जारी है ईंट भट्टों में मज़दूरों का शोषण !

सौरभ सिन्हा: झारखंड से छुड़ाए गए प्रवासी मज़दूरों की कहानी  विजय* और दिव्या* की शादी कुछ साल पहले हुई थी। दोनों छत्तीसगढ़ के बलोदा बाज़ार

Continue reading