पहाड़ और सरकार – एक कविता

जसिंता केरकेट्टा: हम नहीं जानते थे कैसी होती है कोई सरकारजन्म लेते और होश संभालते ही हमने देखा सिर्फ़ जंगल और पहाड़हमें बताओ साहब, कैसी

Continue reading