मेरा कूड़ेदान

जूहेब आज़ाद:

मेरे कूड़ेदान में                                                                          

कुछ कागज़ के पन्ने

उनमें बसे

लफ़्ज़ मेरे

तकलीख़* मेरी

कुछ दर्द

और मेरे

सपने अधूरे

—————————————–

*तकलीख़ : रचना

Author

  • जुहेब, सामाजिक परिवर्तन शाला से जुड़े हैं और दिल्ली की संस्था श्रुति के साथ काम कर रहे हैं। 

One comment

  1. Beautifully expressed. I come back to Yuvaniya and read your words very often. Zindabad Zoheb.

Leave a Reply