ନୁଆଖାଇ ପର୍ବ | नुआखाई पर्व

डोलामणी: ପଶ୍ଚିମ ଓଡ଼ିଶାର ପ୍ରସିଦ୍ଧ କୁର୍ଷି ଭିତ୍ତିକ ଗଣପର୍ବ ନୁଆଖାଇ। ଭାଦ୍ରବ ମାସ ଶୁକ୍ଲ ପକ୍ଷ ପଂଚମୀ ତିଥି ଦିନ ପାଲନ କରାଯାଏ। ଏହା ଶରତ ଋତୁ ଆଗମନର କାଲ। କ୍ରୁଷକ ଦ୍ବାରା ଅମଳ

Continue reading

पश्चिम मध्य प्रदेश के बारेला आदिवासी: देव और हमारे बीच का रिश्ता

मुकेश डुडवे: पश्चिम मध्य प्रदेश के बारेला आदिवासियों के गांव का मुख्य देव, बाबदेव होता है। बारिश के मौसम की शुरुआत में जब सभी प्रकार

Continue reading

निमाड़ अंचल के आदिवासियों की परम्परागत न्याय व्यवस्था

दीवान डुडवे: प्राचीन समय से आज तक आदिवासी अपनी रूढ़ि-प्रथा अर्थात रीति-रिवाजों से प्रशासित व संचालित होते आ रहे हैं, इसी को हम परम्परागत सांस्कृतिक

Continue reading

शहर के लोगों को ज़रूर देखना चाहिए कुमाऊं का यह मेला

महिपाल: एक अर्से बाद इस साल गाँव जाकर चैत का मेला देखने का मौका मिला। यह मेला बैशाख के एक गते को 14 अप्रैल के

Continue reading

आदिवासी खड़िया समुदाय के लोकगीत: साहित्य सृजन की एक पुरानी परम्परा

अनूप उरांव: मानव की उत्पत्ति के क्षण से ही साहित्य का विकास भी होता गया। मानव के जन्म के साथ ही साहित्य सृजन की परम्परा

Continue reading

क्यूँ सूने होते जा रहे हैं आदिवासी गाँवों के अखड़े

जोवाकिम टोप्पो: लोकनृत्य और लोकगीत, आदिवासी जन-जीवन को उल्लासित करने का एक सर्वोत्तम माध्यम हैं। नृत्य, संगीत आदिवासी जीवन के रग-रग में, पल-पल में रचा

Continue reading

1 2 3