आदिवासी और जंगल की अर्थ व्यवस्था से दूर क्यूँ हैं शिक्षा के सिलेबस?

आमिर जलाल: हर समाज की अपनी एक अलग पहचान होती है। वो चाहे शहर हो, गाँव हो या जंगल हो। इंसान का बसेरा हर जगह

Continue reading

बदस्तूर जारी है ईंट भट्टों में मज़दूरों का शोषण !

सौरभ सिन्हा: झारखंड से छुड़ाए गए प्रवासी मज़दूरों की कहानी  विजय* और दिव्या* की शादी कुछ साल पहले हुई थी। दोनों छत्तीसगढ़ के बलोदा बाज़ार

Continue reading

डूंगरपुर से फील्ड रिपोर्ट: रोज़गार के लिए प्रदर्शनरत छात्र-छात्राओं पर पुलिसिया हिंसा

काकरी डूंगरी, डूंगरपुर ज़िले में है। यहाँ कंकड़ और पत्थर की बहुतायत के कारण इसका नाम काकरी डूंगरी पड़ा है। यह हाइवे संख्या NH-8 पर

Continue reading

1 6 7 8