क्योंकि मैं लड़की हूँ मुझे पढ़ना है

कमला भसीन: एक पिता अपनी बेटी से कहता है –पढ़ना है! पढ़ना है! तुम्हें क्यों पढ़ना है?पढ़ने को बेटे काफ़ी हैं, तुम्हें क्यों पढ़ना है?बेटी

Continue reading

विस्थापितों को चाहिए रोज़गार – चांडिल बांध

अरविंद अंजुम: बेरोज़गार युवा विस्थापित संगठन की ओर से रोज़गार की मांग अब ज़ोर पकड़ने लगी है। ये युवा उन परिवारों की दूसरी पीढ़ी है

Continue reading

राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र, ओडिशा के पंडो समुदाय की दुर्दशा

गुलाब नाग खुरसेंगा: छत्तीसगढ के सूरजपुर ज़िले के प्रतापपुर गॉंव में एक गढ़ के अवशेष के रूप में पत्थरों से बनी हुई दिवाल और बाँध

Continue reading

हसदेव बचाओ पदयात्रा: जंगल बचाने के लिए गाँधीवादी सत्याग्रह

महिपाल:  जल-जंगल-ज़मीन बचाने के लिए हसदेव बचाओ पदयात्रा की शुरुआत 4 अक्टूबर को हसदेव अरण्य क्षेत्र के मदनपुर गाँव के उस स्थान से हुई, जहाँ साल

Continue reading

ସ୍ବାଧିନ ଭାରତର ପରାଧିନ ନାଗରିକ | ईंट भट्टों के मज़दूर: स्वतंत्र भारत के पराधीन नागरिक

ଡୋଲାମଣି ବନଛୋର (डोलामणी वनछैर): ଓଡ଼ିଶା ପ୍ରଦେଶର କେ.ବି.କେ. ଅଂଚଳ ବଲାଙ୍ଗିର ଜିଲ୍ଲା ତୁରେକେଲା ବ୍ଳକର କୁଲିଆଦର ଗ୍ରାମର ତେର (୧୩) ଗୋତି ଶ୍ରମିକ ପରିବାର ଉଦ୍ଧାର ହେବାର ଚାରିବର୍ଷ ପରେ ମଧ୍ୟ ପ୍ରଶାସନକୁ

Continue reading

हम तो गए भोपाल, मांगने को रोजगार …….मिली लाठियाँ और निराशा

कृष्णा सोलंकी: मैं एक शिक्षित बेरोज़गार युवा हूँ। पिछले कई वर्षों से, मध्य प्रदेश के एक छोटे से गाँव से अपने साथ कई सपने लेकर

Continue reading

1 3 4 5 6 7 8