कुत्ता – वफ़ादार तो है!

छोटू लाल नागवंशी: वो करता रहा भौं-भौं, तेरे सोने पर जहां लगा था बिस्तर, दूसरे कोने पर हां, उसका प्रकृति है ही, भौंकने का चर

Continue reading