भील बच्ची की गुहार – बाल विवाह रोको

मनीषा:

प्रशन – सरकार ने नया कानून बनाया है कि लड़कियों की शादी की उम्र 18 वर्ष से बढ़ाकर 21 वर्ष कर दी जाएगी। इस बारे में अपने विचार बताइये?

लड़की की अब शादी की उम्र 18 से बढ़ाकर 21 वर्ष हो जाएगी। अब कहीं कहीं पर तो लड़की की शादी 18 साल में ही हो जाती है और उससे पहले भी शादी हो सकती है। यदि 21 वर्ष के पहले शादी होती है तो उस लड़की का विकास नहीं होगा और वह कुपोषित हो जायेगी। और उससे उसकी जान भी जा सकती है। पहले तो शादी की उम्र 18 साल थी पर अब वह बढ़ाकर 21 वर्ष हो गई है। लड़की को पढ़ना भी चाहिए। अगर वह पढ़ाई करके शादी करे तो यह उसके लिए ठीक है क्योंकि वह अपने पैरों पर खड़ी हो सकेगी। 

गाँव में छोटी उम्र में ही शादी हो जाती है और ससुराल भी भेज देते हैं। सब लडकियाँ शादी करना चाहती हैं। अगर कोई लड़की की 21 वर्ष से पहले शादी होगी तो बाल-विवाह कहलायेगा। अगर कोई लड़की की शादी 21 साल पहले होती है तो हेल्प-लाइन 1098 पर कॉल करना चाहिए। सरकार का यह कानून ठीक है क्योंकि इससे लड़की अपनी पढ़ाई पूरी कर सकती है। अगर वह पहले शादी करेगी तो उसका स्वास्थ्य खराब रहेगा। और पुलिस या कानून उसे सजा देगा। यदि उसके माता-पिता उसकी शादी करना चाहते हैं और लड़की शादी नहीं करना चाहती, भले ही लड़की 21 साल की क्यों ना हो, तो भी उनके माता-पिता को सरकार सजा देगी। उसकी मर्ज़ी के बिना ही शादी तय की जाती है तो भी माता-पिता को सजा मिलेगी। अगर लड़की भागकर शादी करती है तो लड़की को सजा होती है। 

कई जगह पर तो बाल विवाह हो जाता है। कम उम्र में ही शादी जैसे 3, 4 या 5 साल की उम्र में ही शादी हो जाती है। यह ज़्यादातर गाँव में ही होता है पर यह ठीक नहीं हैं। गाँव वाले अभी भी बाल-विवाह कर देते हैं। क्योंकि उनकी सोच बहुत पुरानी है। यह सोच बच्चे भी सीख लेते हैं क्योंकि वह उनके साथ ही रहते हैं। पर शहर या नगर में ऐसा बहुत कम होता है। वहाँ धीरे-धीरे लड़कियों को पढ़ाकर उनकी सही उम्र में शादी करते हैं। मुझे तो ऐसा लगता है कि यह बहुत ठीक है क्योंकी इससे बहुत फायदे हैं। 21 वर्ष होने पर ही शादी करनी चाहिए पर 21 वर्ष से पहले शादी हुई तो नुक्सान ही होता है। जब तक लड़की शारीरिक और मानसिक तौर से तैयार नहीं होती है, तब तक बाल विवाह नहीं करना चाहिए। 

मेरे गाँव की औरतों की शादी तो कम उम्र में ही हो गई थी। और वह कुछ ऐसा सोचती हैं कि जो दिन उन्होंने देखे थे वह दिन मेरी बच्चियाँ नहीं देखें। कोई औरतें ऐसा सोचती हैं कि पढ़कर क्या करेगी, ससुराल जाकर काम ही तो करना है। तो वो लड़की की शादी जल्दी कर देते हैं। पर अब दुनिया बहुत आगे पहुंच गई है। अब तो हर जगह पर लड़कियाँ ही नाम रोशन कर रही हैं। वर्तमान में लड़कियाँ देश-विदेश में नाम रोशन कर रही हैं। आप सभी से अनुरोध है कि आप बाल विवाह ना करें। देखिये, इससे कुछ फ़ायदा नहीं है। अगर पढ़ाई पर अपना ध्यान दें तो आपके आने वाला भविष्य सुधर जाएगा। सरकार ने यह नया नियम बनाया है – अब 18 वर्ष नहीं बल्कि 21 वर्ष में ही शादी होगी। और लड़के के लिये शादी की उम्र 21 वर्ष है। अब लड़कियाँ पढ़ाई कर नौकरी करने के बाद ही शादी करेंगी। पर गाँव में सुधार की आवश्यकता है क्योंकि गाँव, अपनी रीति, जो वह करते हैं, बाल विवाह, वही करते हैं। हमें भी वही कोशिश करनी चाहिए कि गाँव के लोग भी सुधर जाएँ और बाल विवाह बंद करें। हमें सभी को शिक्षा का अधिकार है इसलिए सभी को शिक्षा लेना चाहिए और शिक्षित होना चाहिए। शिक्षित हो जाये तो मुझे बहुत ख़ुशी मिलेगी। 

शपत

मैं यह शपत लेता/लेती हूं कि मैं 21 साल से पहले शादी नहीं करुँगी/करूँगा और पढ़ूंगी और अपने माता-पिता का नाम रोशन करुँगी/करूँगा। मेरा सपना IPS बनाना है वह मैं पूरा करुँगी और मैं अपना जीवन सफल बनाउंगी। धन्यवाद।

फीचर्ड फ़ोटो आभार: द इंटरव्यू टाइम्स

Leave a Reply