मंजिल की राहें

बाबूलाल बेसरा: ज़िंदगी एक सफर है,कठिन है राह, कम है समय, सामना कर मंजिल की ओर बढ़ना है,न कोई है मेरे साथ, अकेला हूँ मैं, आशाओं के

Continue reading

आस्तिकता और नास्तिकता से परे है हमारी संस्कृति

पावनी: एक बार मेरे पापा के दोस्त हमारे घर आए हुए थे। दूर का सफ़र था इसलिए रात को वो हमारे घर ही रुके। उनके

Continue reading

शंकर गुहा नियोगी – जिन्हे देश के युवाओं का आइकॉन होना चाहिये

अमित: अब सोचता हूॅं कि ऐसा कैसे हुआ कि इतने सालों में कभी नियोगी से मिला ही नहीं? नियोगी से हम लोग कभी नहीं मिले

Continue reading

असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के केंद्र सरकार ने शुरू किया ई-श्रम पोर्टल

राजू और स्वप्निल: अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) के आँकड़े बताते हैं कि विश्व में कार्यरत जनसंख्या का 61%, असंगठित क्षेत्रों में काम करते हैं। ऐसा

Continue reading

जौनपुर में आयोजित लेखन कार्यशाला में बच्चों ने लिखे कोरोना महामारी पर लेख

कोरोना महामारी से शिक्षा पर पड़ने वाला प्रभाव प्रिया कुमारी; कक्षा 8: कोरोना महामारी से शिक्षा एवं शिक्षण पद्धति पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ा।

Continue reading

पेरियार और जाति का उन्मूलन

युवानिया डेस्क: पेरियार ई. वी. रामासामी ने भारत में जाति उन्मूलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, उन्होंने तमिल नाडु में आत्मसम्मान आंदोलन की स्थापना की और

Continue reading

1 2 3